2017

2016

2015

2014

Welcome to LiNeS fRoM hEaRt
80 का दशक

किसी हाउसफुल थिएटर में दर्शक रामसे ब्रदर्स की क्लासिक हॉरर फिल्म देख रहे हैं जिसमें एक चुड़ैल पीछे से आदमी की गर्दन पकडती है और लोग डर के मारे काँप जाते है, तभी फिल्म अचानक रुक जाती है. प्रोजेक्शन रूम में एंट्री होती है नवाजुद्दीन सिद्दीकी की. वो रील बदलता है. फिल्म दुबारा शुरू होती है. खौफ में डूबी दर्शकों की आँखों पर हवस की परत चढ़ने लगती है. डर का कम्पन लावा रूपी ज्वाला में परिवर्तित होकर देह को सुखद एहसास देने लगता है.
     दुग्गल भाइयों को इस काम में महारत हासिल है. बड़ा भाई विक्की दुग्गल(अनिल जॉर्ज) नये कलाकारों के साथ अश्लील फिल्म बनाकर फिल्म निर्माता पीके(राकेश अस्थाना) को बेचता है और फिल्म वितरक हीरा(मनोश बख्शी) रिलीज़ करता है, तो छोटा भाई सोनू दुग्गल(नवजुद्दीन सिद्दीकी) रीलों में अलग से अश्लील दृश्य जोड़ने, रीले सप्लाई करने व नईं-नईं तारिकाओ का इन्तजाम करने का काम करता है.

     यह वो 80 का दशक था जब मुंबई, बॉम्बे हुआ करता था. मल्टीप्लेक्स शब्द दूर-दूर तक

पुर्तगाल मेरे राजस्थान से भी छोटा है!

04 जुलाई 2004, यूरोपियन चैंपियनशिप का फाइनल मैच, पुर्तगाल बनाम ग्रीस. अगली सुबह स्कूल जाते वक्त चाय की थड़ी पर अख़बार पढ़ा, सिर्फ दूर से देखकर लगता था कि बच्चा अखबार पढ़ रहा है, अपना ज्ञान बढ़ा रहा है, पर असल में सेक्स सम्बन्धी विज्ञापन, सिनेमा व खेल पृष्ठ के अलावा कभी कहीं नजर ना ठहरी...तो खेल पृष्ठ पर छपा था...ग्रीस यूरोपियन फुटबॉल का नया बादशाह. कक्षा में सामाजिक विज्ञान के माड़साहब ने भी कहा कि आज का अखबार पढ़ा, नहीं पढ़ा तो पढो और सीख लो...कैसे एक छोटा-सा यूरोपियन देश फुटबॉल की महाशक्ति बनकर उभरा है? उस दिन एक बात पता चली ग्रीस छोटा-सा देश है, राजस्थान से भी छोटा और पुर्तगाल? अरे जनाब ! पुर्तगाल के बारे में तो पहले से ही ज्ञान जबर था...सन् 1500 में सबसे पहले पुर्तगाली ही तो भारत आये थे व्यापार करने.
कट टू 2010, एक दोस्त ने कंप्यूटर में फुटबॉल का गेम इनस्टॉल किया...विनिंग इलेवन 8 और मैंने जीटीए वाईस सिटी के “टॉमी” से दोस्ती तोड़ ली. जब भी मौका मिले, बस फुटबॉल...फुटबॉल...फुटबॉल. रूल्स-रेगुलेशन तो घंटा ही नहीं पता थे, बस इतना सीख लिया था शोर्ट-लॉन्ग पास कैसे देते है, विरोधी खिलाडी को गिराते कैसे है और डी में घुसने के बाद गोल-पोस्ट में बॉल कैसे डालनी है. फिर एक दिन जिन-जिन विरोधी खिलाडियों को गिराकर चोटिल किया था वे सब बदला लेने पहुंचे और कंप्यूटर फॉर्मेट करना पड़ा.

कट टू 2013, उच्च शिक्षा का एक फायदा यह भी है कि तकनीकी स्तर पर आपकी हालत पहले से बेहतर हो जाती है. अब मेरे पास डेस्कटॉप की जगह लैपटॉप था पर दिल तो अभी भी बच्चा ही था. पुराना प्रेम फिर से जाग उठा और मैंने टोरेंट से

Jhoothe Taare | The Lying Stars | Short Film | Osho | Tanuj vyas | Legend DreamWorks

Art or Science? If at all we are able to isolate one of these as an answer, fitting all situations and all times, we may shout it loud with conviction. We might still be right! However, the world that we live in is far more sophisticated than what we could have ever imagined. When an orphan finds hope of his parents’ existence in the form of stars, does he realize how distant is he from the reality? The psychology of an artist might just revolve around poetries and stories but then life has more to accommodate…symbolized by one of the earthen pots shown towards the end of this story… that’s ‘Science’. This movie is about an artist’s perspective and stresses more upon the need for inquisitiveness. However, in some way or the other, it also compels you to think that life may still not just be only about finding all the answers. It is an attempt to simplify further… to know more… to dare and dream accordingly.



मण्डली-3



वे घने जंगल से होते हुए एक गुफा में पहुंचे. मशालें जल रही थी. जगह-जगह कंकाल-खोपड़ियां बिखरी पड़ी थी. सामने लगभग 15-17 फीट की विशालकाय शैतान की मूर्ति बनी हुईं थी. उस मूर्ति के चरणों में तांत्रिक जादुई जिसका आधा शरीर विष रूपी नीला व आधा सामान्य था, झटा बिखरी हुयी, लंगोट पहने ध्यान में लीन था.
स्वागत है...मण्डली में स्वागत हैं...नौजवानों-जादुई बिना आँखें खोले ही बोला. कबीर-मोहसिन दोनों एक-दूसरे को देखने लगे. जादुई ने बिना आँखें खोले ही मण्डली बनाने के पीछे की वजह बताना शुरू की.


कुछ साल पहले भाखरपुर गाँव के मुखिया अपने बड़े पुत्र की मानसिक बिमारी के चलते दूसरे पुत्र की चाह में तांत्रिक जादुई की शरण में आये थे. जादुई ने शैतानी मन्त्रों और शक्तियों से मुखिया की पत्नी की कोख भरी. बच्चा हष्टपुष्ट व स्वस्थ पैदा हुआ. जिसका नाम पिंटीया रखा. लेकिन तीन साल की उम्र में बरामदे में खेलते

मण्डली-2



साकरियावास

अगली सुबह सरकारी विद्यालय में टेंट-प्रांगण खोले जा रहे था. दो युवा लड़के कबीर और मोहसिन रिक्शे से उतरे है. टेंट खुलते देख दोनों एक-दूसरे को आश्चर्यचकित निगाहों से देखते है.
भाई-साहब टेंट क्यूँ खुल रहे हैं?-कबीर ने एक मजदूर को रोककर पूछा.
कार्यक्रम नहीं होने वाला हैं इसलिए
कौनसा कार्यक्रम?...राजीव जी के N.G.O. वाला
हाँ
क्यूँ?
मैं तो मजदूर हूँ...मुझे क्या पता?
ठीक हैं...राजीव सर कहाँ मिलेंगे?
मैं तो मजदूर हूँ...मुझे क्या पता?-और मजदूर चला गया.
तभी कबीर और मोहसिन की मुलाकात एक सज्जन से हो गयी. N.G.O. के सचिव गोपालकृष्ण बिहारी.
आपकी तारीफ़
जी...हम दोनों भाई हैं...मैं कबीर...और यह मुझसे छोटा मोहसिन
राजीव जी से क्यूँ मिलना हैं?”
हम दोनों उनके N.G.O. पर डाक्यूमेंट्री बनाने आये हैं
दरअसल बात यह हैं कि कल रात से ही उनकी तबियत बहुत ख़राब हैं...इसलिए कार्यक्रम भी कैंसिल कर दिया हैं...तुम्हारा मिलना नहीं हो पायेगा
सर, एक बार मुलाकात हो जाती तो...अच्छा होता...आगे फिर कभी डाक्यूमेंट्री बनाने के बारे में बात हो जाती
अभी बिल्कुल पॉसिबल नहीं है...10 दिन बाद रामगंज आ जाना-और गोपालकृष्ण सामने कमरे में घुस गए.
दोनों भाई उदास हो गए. वापस लौटने के लिए बाइक पर सामने बाँधने लगे. तभी गोपालकृष्ण ने आवाज दी.