पिछली कड़ी:- दी एस्कॉर्ट हार्ट -11- (रिटर्न ऑफ़ दी किंग)


                    डायने एस्कॉर्ट पहुँच चुकी थी. सिपाही उन पर तीर दाग रहे थे लेकिन उनको कुछ फर्क नहीं पड रहा था. डायनों की जान उनके जादुई बालों में कैद थी. अगर छोटा सा बाल का टुकड़ा भी टूट जाए तो वो जल के भस्म हो सकती थी. वे सैनिकों को आराम से मार रही थी. उनके लिए मुश्किल था पिशाचों को मात देना. वहां मौजूद पिशाच डायनों को कड़ी टक्कर दे रहे थे. कुछ डायने राज्य में प्रवेश कर चुकी थी. पिशाच उनका हर कदम पर रास्ता रोकने की कोशिश में थे. उनकी लड़ाई में टक्कर इतनी जबरदस्त होती कि घर की दीवारे टूट रही थी. डायने पिशाच पर अपना जादू इस्तेमाल कर रहे थे, वो उन पर चांदी की तरंगो का हमला कर रहे थे, लेकिन पिशाच अपनी रफ़्तार से उसे चकमा दे रहे थे, क्यूंकि अगर वे डायनों को कहीं भी काट खाते तो भी डायनों को कुछ फर्क नहीं पड़ने वाला था, इसलिए उनका निशाना डायनों के बालों को खाकर काट देना था. सुरंग में लोग काँप रहे थे बाहर लड़ाई की आवाज सुनकर. उनसे भी ज्यादा तो राजा क्रिस्टन काँप रहा था. नेफ्थन ने आकर खबर दी कि काफी सिपाही मारे जा चुके हैं, आप कब लड़ने जायेंगे. क्रिस्टन ने जवाब दिया कि पिशाचों को आने दो फिर. नेफ्थन ने अपनी म्यान में से तलवार खिंची और निकल पड़ा अपनी कुर्बानी देने के लिए. काफी सिपाही मारे जा चुके थे. 2-4 पिशाच ही मारे गए और उतनी ही डायने.

                    कुछ ही पल बाद वहां पर-परियां भी पहुँच गए. लड़ाई और खतरनाक होती
जा रही थी. परियां की ताकत डायनों जितनी ही थी फर्क बस इतना था कि पिशाच अगर उनको काट खाते तो वो उसी वक़्त पिशाच बन जायेंगी और डायनों का सामान्य जादू भी उन्हें चारो खाने चित्त कर सकता था, लेकिन फिर भी वो डायनों और पिशाचों को कड़ी टक्कर दे रही थी. असली लड़ाई परियों और डायनों और जादुई शक्तियों के बीच थी. पिशाचों के पास सिर्फ ताकत थी, रफ़्तार थी. रोजलीन, आसीन को ढूंढ रही थी और आसीन, क्रिस्टन को
                    सुरंग में छिपी जनता को खबर मिली कि परियां आ पहुंची हैं तो उन्हें थोड़ी-सी राहत मिली, उनके दिलों में खौफ छाया था अभी तक नही पहुंचे पिशाचों का क्यूंकि उनकी संख्या उनसे कहीं गुना ज्यादा थी और वो अगर जीत गए थे एस्कॉर्ट पर पिशाचों का राज होंगा.
                     नेफ्थन डायनों से लड़ते-लड़ते एस्कॉर्ट के लिए अपने जान की कुर्बानी दे चूका था. किमियन की पिशाचों की सेना एस्कॉर्ट की तरफ आती हुयी दिखाई दे रही थी. उनके आते ही दृश्य बदल गया. तीनों आपस में एक-दुसरे से लड़ रहे थे. कुछ हवा में तो कुछ जमीन पर. एस्कॉर्ट राज्य काफी तबाह हो चूका था. क्रिस्टन को किमियन आने के जानकारी मिली तब भी वो अपने कक्ष में बेठे काँप रहा थे. कुछ ही पलों के बाद तीनो नेतृत्व आमने सामने आ गए. रोजलीन, आसीन और कीमियन. उनके लड़ने का तरीका कुछ ऐसा था कि तीनो आपस में नहीं लड़ रहे थे, कोई दो किसी एक पर धावा बोल देते, फिर अगली बार कोई दो किसी एक पर. किमियन पर एक साथ दो चांदी की तरंगो का हमला होता लेकिन उसकी रफ़्तार उसे मात देने के लिए काफी थी.
                      तभी बहुत-से घोड़ो के दौड़ते हुए आने की आवाज सुनाई दी. इवान्स और उसकी भूतों की सेना पहुँच चुकी थी. सबसे आगे इवान्स अपने घोड़े पे सवार और उसके पीछे भूत जो हवा में तैरते हुए घोड़ो पे सवार थे.
                      एक सिपाही भागता हुआ सुरंग में आया और उसने लोगो की खुशखबरी दी कि इवान्स आया हैं हमारी जान बचाने. सब लोगो की बांहें खिल गई.
“मैंने पहले ही कहा था कि भविष्यवाणी कभी गलत हो ही नहीं सकती, इवान्स ही हमारा असली राजा हैं”-एक बोला.
                      भूतों का मारने का एक ही तरीका था, डायनों के शरीर में घुस कर उन्हें आपस में लडवाना, ताकि उनके बालों को आसानी से काटा जा सके और पिशाचों के शरीर में घुस कर इस कदर नियंत्रित करना कि परियां और डायने उन पर आसानी से चांदी की तरंगो से हमला कर सके. ऐसे करते-करते उन्होंने न जाने कितनो को टपका डाला. वो परियों को नुकसान नहीं पहुंचा रहे थे. उनकी मदद कर रहे थे. तीन खेमे बंट गए थे. भूत और परियां एक तरफ थे, बल्कि पिशाच और डायन अलग-अलग, उन्हें आपस में भी लड़ना था और भूत-परियों के खेमे से भी. इवान्स की तिलस्मी तलवार ने कइयों को मौत के घाट उतार दिया. रोजलीन एक पिशाच के हमले से दीवार से जा टकराई. वो अपने दुसरे हमले से रोजलीन को और ज्यादा नुकसान पहुंचाने ही वाला था कि एक वक़्त पर इवान्स ने उसका काम तमाम कर दिया. रोजलीन और इवान्स ने एक-दुसरे को दुबारा करीब पाकर खुश हुए. इवान्स ने रोजलीन को अपने हाथ आगे बढ़ा खड़ा किया और फिर गले मिल गए.
                     आसीन व किमियन आपस में लड़ रहे थे. रोजलीन आसीन की तरफ हमले के लिए जा रही थी, इवान्स ने उसका हाथ पकड के रोक दिया, दोनों ने एक दुसरे की तरफ देखा, इवान्स ने छोड़ दिया. उसे मालुम था कि आसीन उसकी माँ हैं लेकिन उसने भी तो किसी के माँ-बाप की जान ली थी. रोजलीन के वहां से जाते ही मौका पाकर चार पिशाचों ने चार तलवारे एक साथ इवान्स के आर-पार कर दी. सब कुछ थम गया. सब लड़ते-लड़ते रुक गए. किमियन, आसीन लड़ते-लड़ते रुक गए, इवान्स की तरफ देखने लगे. आसीन का मुंह खुला ही रह गया, उसके कदमो में मानो जान ही न हो, वो आगे बढ़ा ही नहीं पा रही थी. रोजलीन उनकी और बढ़ते-बढ़ते ही रुक गई. उसने पीछे मुड़ इवान्स की तरफ देखा. इवान्स की धडकने उल्टे पाँव लौट रही थी.
                    इवान्स के शरीर से काफी खून बहने लगा था. वो लडखडाने लगा था, धीरे-धीरे जमीन की ओर गिरने लगा था. उसकी तलवार उसके हाथ में ही थी. वो पूरा जमीन को छूने ही वाला था कि एकदम से उठ गया और अपनी तलवार से उन चारो पिशाचों के सिर धड से अलग कर दिए. उसका खून बहना बंद हो गया. सबकी आँखें खुली रह गई. सब हक्के-बक्के देख रहे थे. रोजलीन मुस्कुरा रही थी.
“इवान्स तुम कभी मर ही नहीं सकते, क्यूंकि तुम्हारे सीने में मेरा दिल है....एक परी का दिल....दी एस्कॉर्ट हार्ट....एक रक्षा करने वाला दिल....” रोजलीन ख़ुशी के मारे चिल्लाई. आसीन भी खुश हुईं लेकिन फिर उसकी आँखें मायूस हो गई कि काश वो अपनी ख़ुशी इवान्स से बाँट पाती.
“शुक्रिया, एस्कॉर्ट की रक्षा करने वाला दिल....एस्कॉर्ट हार्ट” इवान्स रोजलीन की तरफ देख मुस्कुरा के बोला. उसने चारो तलवारे बारी-बारी से बाहर निकाली, उसे जरा-सा भी दर्द नहीं हुआ. लड़ाई दुबारा शुरू हुई.
                     क्रिस्टन अभी भी अपने कक्ष में बैठा था. तभी किसी ने उसके कक्ष का दरवाजा खटखटाया. राजा घबराया हुआ दरवाजे की तरफ देखने लगा. ऐसा लग रहा था कि कोई दरवाजा तोड़ने के लिए धक्का दे रहा हो. क्रिस्टन अपनी जगह से उठा, म्यान में से तलवार निकाली, लेकिन दो कदम पीछे खिसका. अगले ही पल दरवाजा टुटा. आसीन ने कक्ष में प्रवेश किया.
“तुमसे दुबारा मिल मुझे बेहद ख़ुशी हुयी”-आसीन उसकी तरफ बढ़ रही थी.
“मेरे करीब मत आना,वरना मैं तुम्हे मार दूँगा”-मौत की डर के मारे क्रिस्टन का पसीना छुट रहा था. आसीन जोर से हंसीं, उसके हँसने की आवाज पुरे कमरे में गूंजने लगी.
“मरने के लिए तैयार हो जाओ”-उसने अपना हाथ क्रिस्टन की तरफ झटका और क्रिस्टन के शरीर से आग की लपटे निकलने लगी. वो तड़प रहा था. आसीन हँस रही थी. क्रिस्टन जलकर भस्म हो गया.
                    आसीन वहां से जाने के लिए पीछे मुड़ी. किमयन ने हवा में छलांग लगाते उस पर वार किया और आसीन दीवार से जा टकराई. बुरी तरह से घायल हो चुकी थी. किमियन उसकी तरफ बढ़ी. वो उसके बालों को नोचने ही वाली थी कि इवान्स-रोजलीन ने उस पर हमला कर दिया.
इवान्स, किमियन से लड़ रहा था और रोजलीन, आसीन से.
                    रोजलीन ने घायल आसीन को आसानी से मार अपने माता-पिता की मौत का बदला लिया. उसने आसीन के बालों को जला दिया फिर उसे को खिड़की से नीचे महल के पीछे कंटीली झाड़ियों में फेंक दिया. वो झाड़ियों तक पहुँचते-पहुँचते जल कर भस्म हो गई. इवान्स ने रोजलीन की तरफ देखा. रोजलीन खिड़की के नीचे देख रही थी. उसने मुड़कर इवान्स की तरफ देखा. इवान्स की आँखों से एक बूंद जमीन पर गिरी.
                  मौका पाकर किमियन ने इवान्स को जोर से धक्का दिया वो सामने दीवार से जा टकराया. रोजलीन ने किमियन पर धावा बोल दिया. इवान्स को काफी चोटे आई. वो बड़ी मुश्किल से खड़ा हो पाया. रोजलीन के प्रहारों से किमियन काफी घायल हो चुकी थी. रही सही कसर इवान्स ने पूरी कर दी. उसने अपनी जादुई चांदी की तलवार से किमियन का सिर धड़ से अलग कर दिया. किमियन मारी गई. भूतो व परियों ने मिलकर कर सब पिशाचों व डायनों के मार गिराया. क्रिस्टन के मरने की खबर सुन एंगेलिका ने महल की तीसरी मंजिल से कूद आत्महत्या कर दी.
                 लड़ाई ख़त्म हो गई थी. इवान्स, रोजलीन ने जंग जीत ली थी. एस्कॉर्ट काफी नष्ट हो चूका था. चारो तरफ लाशें ही लाशें थी. आधे से ज्यादा इवान्स के सिपाही मारे गए. एस्कॉर्ट की प्रजा को उनका राजा वापस मिल गया था. प्रजा सुरंग से नाचते, उछलते बाहर आ रही थी. चारो तरफ इवान्स के जय-जयकार के नारे गूंज रहे थे.
                 सबका बदला पूरा हुआ. आसीन ने क्रिस्टन से बदला लिया. रोजलीन ने आसीन से. भूतों ने डायनों से. इवान्स ने वक़्त से. पिशाचों ने बेवजह सबसे दुश्मनी मोल ली और स्वयं के द्वारा ही स्वयं का विनाश करा दिया..
                 इवान्स ने अपने पिता राजा क्रिस्टन, माँ आसीन, एंगेलिका के साथ सभी शहीद सिपाहियों व कुछ परियों का अंतिम संस्कार किया. आसमान में गिद्द मंडराने लगे थे. डायनों व पिशाचों की लाशों को खुले मैदान में रख गिद्द के लिए दावत का आयोजन किया गया.
                 जेसपन के भूत ने इवान्स का शरीर छोड़ा. इवान्स ने सबके सामने घुटनों पर बैठ रोजलीन के सामने शादी का प्रस्ताव रखा. वो मना नहीं कर पाई. इवान्स दुबारा से एस्कॉर्ट का राजा बना और रोजलीन एस्कॉर्ट की रानी. जेसपन के भूत ने इवान्स और स्वयं को दुबारा राजा बनने पर बधाई दी. जेसपन और बाकी भूतों को मोक्ष की प्राप्ति हुईं.
                 राज्य के पास बहती आंसुओ की नदी सुख गई थी. लेकिन जिस वक़्त इवान्स का राज्याभिषेक हो रहा था उस वक्त तूफानी बारिश हुयी, नदी दुबारा बहने लगी थी. आंसुओ की नहीं एक राजा और प्रजा के बीच अटूट प्रेम की, एक ऐसा प्रेम जिसकी वजह से वक़्त को भी झुकना पड़ा और एक राजा को दुबारा अपनी प्रजा के पास भेजना पड़ा.
महल प्रजा से भरा हुआ था. चारो तरफ इवान्स व रोजलीन की जय-जयकार की गूंज थी. राजा इवान्स व रानी रोजलीन सिंहासन पर बैठे थे. रोजलीन ने इवान्स के दिल की तरफ देखा, फिर इवान्स ने भी अपने दिल की तरफ देखा. दोनों एक साथ मुस्कुराए....
....दी एस्कॉर्ट हार्ट....एक रक्षा करने वाला दिल.  

समाप्त!

For more updates about upcoming stories, poems and articles.... Like Facebook Page.... Lines From Heart